Jack Ma Biography In Hindi

Founder and CEO Of Alibaba.com

दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी में से एक अलीबाबा के फाउंडर Jack Ma की कहानी काफ़ी संघर्ष से भरी है, Jack Ma दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तियों की लिस्ट में 19वे नंबर पर आते हैं (जनवरी 2021 के अनुसार), एक नॉर्मल टीचर से एक बिलेनियर बनने की Jack Maa की कहानी काफ़ी इंस्पायरिंग है ।

Jack Ma का जन्म 10 सितंबर 1964 को चीन में एक छोटे से गाँव Hangzhou में हुआ था | Jack Ma के माता-पिता ट्रेडिशनल सॉन्ग गाने का काम करते थे, इंग्लिश के प्रचलन को देखते हुए Jack Ma ने भी बचपन से ही इंग्लिश सीखनी शुरू की, बहुत कम उम्र में ही Hangzhou International Hotel जो उनके नज़दीक ही था, वहाँ वो उन होटल में आये हुए टूरिस्ट से इंग्लिश में बात करने जाते थे।

वो रोजाना 9 साल तक उनके घर से 27 किलोमीटर दूर एक टूरिस्ट स्पॉट पर टूरिस्ट्स को गाइड करने जाते थे, ताकि वो पूरी तरह से इंग्लिश सीख सके, वहाँ उन्हें एक टूरिस्ट मिला था उसी ने उन्हें Jack नाम दिया, असल में उनका नाम Ma Yun था ।

Jack Ma ने जब कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एक्ज़ाम दिया तो उन्होंने तीन साल बाद उस एक्ज़ाम को क्लियर किया क्योंकि चाइनीज़ एंट्रेंस एक्ज़ाम एक साल में एक बार ही होते हैं, उन्हें दूसरा चांस नहीं मिलता और तीन साल बाद उन्होंने Hangzhou Teacher’s Institute में एडमिशन ले लिया।

1988 में 24 की उम्र में Jack Ma ने BA से ग्रेजुएट किया और ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने Hangzhou Dianzi University में इंग्लिश लेक्चरर के तौर पर जॉइन कर लिया। Jack Ma ने एक इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने के हार्वर्ड बिज़नेस स्कूल में एडमिशन लेने के लिए 10 बार अप्लाई किया था लेकिन वो हर बार फैल हो गये थे ।

एक बायोग्राफिकल स्पीच में Jack Ma ने कहा था कि ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने 30 अलग-अलग जगहों पर जॉब के लिए अप्लाई किया था लेकिन उन्हें कहीं भी सेलेक्ट नहीं किया गया । एक बार वो KFC में जॉब के लिए गए थे जहाँ 24 लोग इंटरव्यू के लिए आये थे और उनमें से 23 लोगों को सेलेक्ट कर लिया गया और Jack Ma को वहाँ से भी रिजेक्शन मिला। उन्होंने पुलिस फ़ोर्स जॉइन करने के लिए अप्लाई किया लेकिन उन्हें वहाँ से भी रिजेक्शन मिला।

1994 में Jack Ma ने अपनी पहली कंपनी Hangzhou Haibo Translation Agency को रजिस्टर किया, जो लैंग्वेज ट्रांसलेशन कंपनी थी। 1995 Jack Ma ने अपने में दोस्त के साथ मिलकर China Pages नाम की कंपनी खोली और तीन सालों में उन्होंने 5,000,000 Renminbi ($800,000) कमाए ।

वो chinapages.com खोलने से पहले अमेरिका गए थे क्योंकि उन्हें इंटरनेट की कुछ खास जानकारी नहीं थी और वो चाइना बेस्ड कंपनी के लिए वेबसाइट बनाने के काम करते थे। उन्होंने 2010 में एक इंटरव्यू में कहा कि वो न तो कोडिंग करना जानते थे और न ही कस्टमर से बात करते थे, उनका सब काम अमेरिका में रहने वाले उनके फ्रेंड्स ही करते थे।

1988 में Jack Ma ने चाइना इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स सेंटर में काम किया और 1999 में रिज़ाइन देकर उन्होंने खुद की ई-कॉमर्स कंपनी बनाने की सोची और अपनी पुरानी कंपनी के 17 साथियों के साथ मिलकर अलीबाबा ग्रुप नाम से कंपनी बना डाली। यह एक B2B वेबसाइट थी जो बड़े और व्होलसेल ट्रेडर से रिटेलर को सामान प्रोवाइड करने का काम करती थी। उसके बाद अलीबाबा ने पूरे वर्ल्ड में अपना नाम बना लिया।

आज अलीबाबा ग्रुप alibaba.com, Alibaba Cloud, Aliexpress, AliOS, Alipay जैसे मल्टीनेशनल कंपनीज़ को चलाते हैं। उनकी नेट वर्थ 59.8 बिलियन डॉलर है और वो दुनिया के अमीर लोगों की लिस्ट में टॉप 20 में आते हैं, ये वही इंसान है जिन्होंने इतनी रिजेक्शन के बाद भी हार को कभी एक्सेप्ट नहीं किया और अपने न्यू आईडिया के साथ दुनिया में ऐसा बिज़नेस बिल्ड किया जो दुनिया के लगभग हर देश में अपनी सर्विस प्रोवाइड करता है ।

“When people think too highly of you, you have the responsibility to calm down and be yourself.”- Jack Ma

Leave a Comment

error: Content is protected !!